02 सितंबर 2017

डरती हूँ

तुम्हारा नाम लेने से,
डरती हूँ,
की कोई ओर उसे सुन ना  ले। 

             तुम्हारा ज़िक्र करने से,
             डरती हूँ,
            की कोई ओर तुम्हें जान ना ले। 

                       तुम्हें महसूस करने से,
                       डरती हूँ,
                      की कोई ओर वह अहसास छीन ना ले। 

                             तुम्हें याद ना करना,
                             यह मेरे बस की बात नहीं,
                             पर तुम्हें कोई ओर याद करे,
                              इस बात से डरती हूँ। 

                                    एक वरदान हो तुम,
                                    ईश्वर का मुझ पर,
                                   फिर भी ना जाने क्यों डरती  हूँ ?

                                        मेरे ही रहना तुम हमेशा,
                                       यही  ईश्वर से प्राथना करती हूँ । 
                                                        

7 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द" में सोमवार 04 सितंबर 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.com आप सादर आमंत्रित हैं ,धन्यवाद! "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना वंदना जी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मन की सुंदर कामना से भरी रचना ------

    उत्तर देंहटाएं

आभार है मेरा