02 सितंबर 2017

मेरी और तुम्हारी कहानी

मेरी और तुम्हारी कहानी,
एक दिन यह ज़माना पढ़ेगा,
और ना जाने कितनी
कवितायें गढ़ेगा l

हर छन्द में,
नाम होगा मेरा और तुम्हारा,
किसी ना किसी टूटे स्वप्न का,
होगा यह सहारा l


झरने की तरह,
बहती भावों की माला,
सेहलायेगी और,
बुझायेगी पीड़ित हृदय की ज्वाला l

मेरी और तुम्हारी कहानी,
कुछ अनसुनी और कुछ सुनी,
स्नेह की धारा l
                         

डरती हूँ

तुम्हारा नाम लेने से,
डरती हूँ,
की कोई ओर उसे सुन ना  ले। 

             तुम्हारा ज़िक्र करने से,
             डरती हूँ,
            की कोई ओर तुम्हें जान ना ले। 

                       तुम्हें महसूस करने से,
                       डरती हूँ,
                      की कोई ओर वह अहसास छीन ना ले। 

                             तुम्हें याद ना करना,
                             यह मेरे बस की बात नहीं,
                             पर तुम्हें कोई ओर याद करे,
                              इस बात से डरती हूँ। 

                                    एक वरदान हो तुम,
                                    ईश्वर का मुझ पर,
                                   फिर भी ना जाने क्यों डरती  हूँ ?

                                        मेरे ही रहना तुम हमेशा,
                                       यही  ईश्वर से प्राथना करती हूँ । 
                                                        

खाली पन्ने .....

अक्सर खाली पन्नों  पे,
लिखती हूँ तुम्हारा नाम |

क्या कभी इन पन्नों  पर,
तुम्हारे संग जुड़ पायेगा,
मेरा नाम ?
अब पन्नों  की एक किताब,
फड़फड़ा  रही है,
रुआंसे कोने में |

स्याही भी यही पूछती है मुझसे,
क्यूँ लिखती हो उसका नाम,
जिससे  कभी ना जुड़ा तुम्हारा नाम?