12 October 2014

मैं क्या चाहती हूँ

हूँ तो तुम्हारी भक्तिन, 
पर  तुम्हारी शक्ति बनना चाहती हूँ।  

हूँ तो तुम्हारी चरण धुलि , 
पर तुम्हें माथे लगाना चाहती हूँ।  

हूँ तो मुरझाई कली  सी,
पर  फूल बन तुम्हारी राहों में बिखरना चाहती हूँ। 

हूँ तो ओंस की बूँद भर , 
पर सावन बन तुम पर बरसना चाहती हूँ।  

हूँ तो  कागज का  टुकड़ा बस,
पर  तुम्हारी कहानी लिखना  चाहती हूँ।  

यूँ तो कोई अस्तित्व नहीं है मेरा ,
पर तुझ में समाना चाहती हूँ ,

बिखरा बिखरा सा यह जीवन है ,
तुम को खुद में समेटना चाहती हूँ। 

बंधी है डोर किसी ओर संग, 
पर तुम्हें अपना सर्वस्व समर्पण करना चाहती हूँ। 





3 comments:

  1. बहुत सुन्दर.....

    ReplyDelete
  2. Every word is an expression Beautiful composition

    ReplyDelete
  3. bina lag lapet ke dil ka hal bata diya ..sundar abhiwayakti ...

    ReplyDelete

आभार है मेरा

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...