22 सितंबर 2014

टूटे ख्वाब

टूटे - टूटे ख्वाबों के  ,
टुकड़े यहाँ- वहाँ हैं बिखरे हुए ,
इस आशा में पड़े हैं कि ,
कभी कोई उन्हें छुये। 

राहगीर की नज़र पड़ी  जब ,
उठाये उसने चंद टुकड़े,
बाकी रह गए यूँही बस ,
कुछ सिमटे , कुछ उखड़े - उखड़े। 


अनेक उड़ गए पवन संग ,
और जो बच गए पीछे ,
आँख मूँद सो गए ,
कभी कोई गुजरे वहां से तो शायद उन्हें वह सींचे। 

सब को सब कुछ कहाँ मिला है ,
जीवन तो  बस धोखा है ,
जीना है हर हाल में इसको ,
वैसे तो सब खाली है ,खोखला है। 




2 टिप्‍पणियां:

  1. जीवन तो बस धोखा है ,
    जीना है हर हाल में इसको ,
    वैसे तो सब खाली है ,खोखला है।
    ...... ..इस नश्वर संसार में सबकुछ ही धोखा है..कितना भी कुछ करो सब यहीं धरा रह जाना है ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति !
    आज आपके ब्लॉग पर आकर काफी अच्छा लगा अप्पकी रचनाओ को पढ़कर , और एक अच्छे ब्लॉग फॉलो करने का अवसर मिला !

    उत्तर देंहटाएं

आभार है मेरा