13 जून 2014

जिंदगी

धूप में ,छाओं में,
दौड़ती है,
जिंदगी।

कभी खुशियों का  गुलदस्ता लिए ,
कभी ग़मों का पुलिंदा लिए,
भटकती है,
जिंदगी। 

प्यासी आँखें  पीती हैं पानी, 
आसुओं की बौछार से ,
कहीं पेट  की आग  बुझाती,
चंद बातें ,
बस ऐसे ही सरपट- सरपट चलती है,
जिंदगी। 

शिकायत करे या बढ़ती जाये, 
सोचती रहती है,
जिंदगी। 
यहीं खिलखिलाती,
और मिट जाती है ,
जिंदगी।


3 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. यही तो है जिंदगी कही धूप और छाया और कभी ख़ुशी और गम.... चलते जाना

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर रचना है, शब्द और भाव का संयोजन सुन्दर लगा !

    उत्तर देंहटाएं

आभार है मेरा