24 December 2013

ये पंखुड़ियाँ l

किंचित किंचित पंखुड़ियों पे,
एक अजब सी प्यास उठी ,
तुम्हारे प्यार कि कुछ बूंदों से,
जाने कब ये प्यास बुझी l 
पलक झपकते ही उड़ जाती ,
मंद - मंद पवन सी,
कभी यहाँ - वहाँ बलखाती,
ये पंखुड़ियाँ  l 
छूना चाहती है चाँद को,
उसकी ठंडी चाह को,
और कभी सूर्य कि ऊष्मा को  ,
ज्वलनशील उसकी देह को l 
किन्ही विचारों सी बस,
बिखरें इधर- उधर,
ये पंखुड़ियाँ l 
समेटना चाहूं ,
तो भी न सिमटें ,
ये तो बस , उड़ना चाहती है,
चहुँ और,
ज्यों तिनके l 

1 comment:

  1. वाह . बहुत उम्दा
    कभी यहाँ भी पधारें

    ReplyDelete

आभार है मेरा

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...