02 December 2013

आसपास हो तुम

हवाओं कि गर्माहट से,
पत्तों  की  आहट  से,
लगे, आसपास हो तुम l 

कल- कल बहता पानी,
कहे तुम्हारी कहानी,
तो, लगे आसपास हो तुम l 

पंछियों का कोलाहल,
कहे मुझसे हर पल,
कि , आसपास हो तुम l 

फूलों में, कलियों में,
सूने  रास्तों और गलियों में ,
लगे ,आसपास हो तुम l 

जब  आँखें मींची ,
हुई स्वपन में विलुप्त ,
तो तुमने ही कहा,
मेरे ह्रदय में हो तुम l 

No comments:

Post a Comment

आभार है मेरा

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...