24 मई 2013

मेरे सपनों की दुनिया

 मेरे सपनों की दुनिया,
है हकीकत से परी ये दुनिया l 

कहीं है फूलों की खुशबू 
कहीं है मधु की महक l 
कहीं है भवरों का गुंजन,
कहीं है चिड़यों  की चहक  l 
कभी तुम्हारा  हाथ है मेरे हाथ में,
कभी मेरा हाथ है तुम्हारे सिराहने l 
कभी तुम कविता लिख रहे हो ,
कभी तुम  गुनगुना रहे हो l 


मेरे सपनों की दुनिया,
है हकीकत से  परे  ये दुनिया l 

3 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर रचना वंदना...
    बस यहाँ परी को परे कर दो.."है हकीकत से परी ये दुनिया"

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. :) thankyou...yes will do so....thankyou for taking time and read my poems:)!!!!

      हटाएं
  2. बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......
    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

आभार है मेरा