30 जून 2018

ईश्वर

जब विलीन हो हमारा स्वर,
ब्रह्माण्ड चक्र में ,
                                              तब बन जाये वह स्वर : ईश्वर II 

बस उसका ही सिमरन,
श्रद्धा जो हो नश्वर,
                                                 पा सकेंगे तब ही हम : ईश्वर II 

जब मन का आंगन,
तपस्या  रूपी फूलों से जाये भर,
                                                   तभी मिलेंगे हमें : ईश्वर II 

स्वयं में खोजें,
हर कण में नाम धर,
                                                   पा जाएंगे उस दिन हम : ईश्वर II 

भक्ति रस में डूबे,
हमरा पल - पल हर,
                                                 तब क्यों न मिलेंगे : ईश्वर II 




28 जून 2018

प्यारा बचपन

आसमान में कितने सारे
टिमटिमाते सितारे
जंगल में भी
झिलमिल करता
जुगनुओं के रूप में
उनका गुंजन 


सोचे बच्चे 
कि तारें कैसे 
नाचें ऊपर नीचे ?
कभी चमकते
कभी दमकते 
सहलाते आँखें मीचे 

बचपन की यही कहानी 
अब लगती अनजानी 
जाने कहाँ खो गयी बचपन की वह मौज 
अब जीवन बन गया है एक गहरी सोच !



वर्षा की बूँदें

टिप -टिप वर्षा की बूँदें,
     महसूस करो आँखें मूंदें। 

ज्यों मोती गिरते झर-झर,
     वैसे हैं बूंदों के स्वर। 

एक सुन्दर स्वपन जैसा,
     बूंदों का आवरण ऐसा। 

मधुर ध्वनि गूँजें जब, जब,
     नाच उठें झूम - झूम मयूर सब। 


वर्षा की इन बूंदों में ही,
     विलुप्त हो अब सूखा भी। 

धरती, जंगल, समग्र संसार,
     श्रद्धालु  इन बूंदों का अपार ।  


02 सितंबर 2017

मेरी और तुम्हारी कहानी

मेरी और तुम्हारी कहानी,
एक दिन यह ज़माना पढ़ेगा,
और ना जाने कितनी
कवितायें गढ़ेगा l

हर छन्द में,
नाम होगा मेरा और तुम्हारा,
किसी ना किसी टूटे स्वप्न का,
होगा यह सहारा l


झरने की तरह,
बहती भावों की माला,
सेहलायेगी और,
बुझायेगी पीड़ित हृदय की ज्वाला l

मेरी और तुम्हारी कहानी,
कुछ अनसुनी और कुछ सुनी,
स्नेह की धारा l
                         

डरती हूँ

तुम्हारा नाम लेने से,
डरती हूँ,
की कोई ओर उसे सुन ना  ले। 

             तुम्हारा ज़िक्र करने से,
             डरती हूँ,
            की कोई ओर तुम्हें जान ना ले। 

                       तुम्हें महसूस करने से,
                       डरती हूँ,
                      की कोई ओर वह अहसास छीन ना ले। 

                             तुम्हें याद ना करना,
                             यह मेरे बस की बात नहीं,
                             पर तुम्हें कोई ओर याद करे,
                              इस बात से डरती हूँ। 

                                    एक वरदान हो तुम,
                                    ईश्वर का मुझ पर,
                                   फिर भी ना जाने क्यों डरती  हूँ ?

                                        मेरे ही रहना तुम हमेशा,
                                       यही  ईश्वर से प्राथना करती हूँ । 
                                                        

खाली पन्ने .....

अक्सर खाली पन्नों  पे,
लिखती हूँ तुम्हारा नाम |

क्या कभी इन पन्नों  पर,
तुम्हारे संग जुड़ पायेगा,
मेरा नाम ?
अब पन्नों  की एक किताब,
फड़फड़ा  रही है,
रुआंसे कोने में |

स्याही भी यही पूछती है मुझसे,
क्यूँ लिखती हो उसका नाम,
जिससे  कभी ना जुड़ा तुम्हारा नाम?

18 जनवरी 2017

अविस्मरणीय

जिस तरह देवता को देखे दीप,
रहना चाहूँ मैं भी,
हरदम तुम्हारे समीप। 

श्वांस के सामान स्वचलित,
है इस ह्रदय में,
तुम्हारी ही लौ प्रज्वलित। 

धीमी धीमी  धूप की आंच,
जैसे तपाये सर्दी की सांझ,
मधुर स्मृतियाँ छू जाएं ,
 मेरी हर सांस। 

यादों के घने बादलों में,
धुंध सी समां जाऊं मैं,
ना  और  ना  छोर,
बस मैं और तुम्हारी यादें ,
                                      बहें  अविस्मरणीय.........